Nepal – the country of the Buddha and the Mt. Everest

Peace comes from within. Do not seek it without – Buddha

Vote to promote Nepal as the country of the Buddha and the Mt. Everest

Posted by Ram Kumar Shrestha on March 28, 2013


BB2013-PCA-vote

Dear friends,

Including this blog 1122 blogs are entered into the Best Australian Blogs 2013 Competition and now this is the time for People’s Choice Award, so now this is your time to vote! It will take you less than a minute and would earn you MASSIVE brownie points and actual brownies if you’d like! This is another small attempt to promote Nepal as the country of the Buddha and the Mt. Everest.

Process to vote:

  1. Please click here
  2. Select this blog. For this click “VOTE HERE” button. This blog is listed as Nepal – the country of the Buddha and the Mt. Everest on the (almost) bottom of the third page, and then you just need to include your details and done! It’s open until the 30th of April, but why not to do right now? Continue to press Next until you press Done

 Or directly you can click here select this blog. It’s listed as Nepal – the country of the Buddha and the Mt. Everest . 

I would like to thank you all for your time and contribution in this mission!!!

8 Responses to “Vote to promote Nepal as the country of the Buddha and the Mt. Everest”

  1. World Peace Praying Ana Happy Easter 2013 to all of you ! 請你食朱古力! 2013

  2. Sujan said

    This is really true saying that lord buddha was born in nepal and the world heighest peak Mt.Everest lies in nepal with full 100% proof and the world is watching what is the true behind of it that’s why true never can hide and reveals it automatically i vote for this topic with fully support and agreement thanks

  3. Holi hey,World Peace Praying Ana Happy Easter 2013 to all of you ! 請你食朱古力! 2013

  4. s k shrestha said

    Very good website and best of luckfor your hard work.

  5. Ramchandra marahatta said

    Good Idea .Good luck Nepalese .Jay Nepal .

  6. ram kumar shrestha said

    Gautama buddha burn in Nepal.

    http://m.facebook.com/profile.php?id=100373143478995&refid=13

    Gautama was born as a prince. His father was King Suddhodana and his mother was Queen Mahamaya. When he was sixteen he finished his education and he married Princess Yasodara. King Suddhodana handed over his kingdom to his son Siddhartha. They had a baby name Rahula. When king Siddhartha was 29 years old he decided to renounce lay life. Siddhartha left from his kingdom and went to several well-known teachers to study the ultimate nature of reality. But their teachings didn’t satisfy him and he set out to find his own path. Six years later he went to Bodgaya near the Neranjana River and sat under a tree.
       Siddhartha’s mind was calm and relaxed. As he sat his concentration deepened and his wisdom grew brighter. In this clear and peaceful state of mind he began to examine the true nature of life. “What is the cause of suffering,” he asked himself, “and what is the path to everlasting joy?” In his mind’s eye he looked far beyond his own country, far beyond his own world. Soon the sun, planets, the stars out in space and distant galaxies of the universe all appeared to him in his meditation. He saw how everything, from the smallest speck of dust to the largest star was linked together in a constantly changing pattern: growing, decaying and growing again. Everything was related. Nothing happened without a cause and every cause had an effect on everything else.
       As he realized this, deeper truths appeared to his mind. He looked deeply into himself and discovered that his life as Siddhartha the Prince was but the latest in a series of lifetimes that had no beginning – and that the same was true of everyone. We are born, live and die not one time, but again and again. He saw that death is only the separation of the mind from its present body. After death the importance of Karma is central to the next journey. When one life ends, another begins – and in this way the wheel of death and birth keeps spinning around and around. He also saw one life to the next we are constantly changing and constantly affecting one another. Sometimes we are rich and comfortable; sometimes we are poor and miserable. Occasionally we experience pleasure, but more often we find ourselves with problems. And Siddhartha also saw that as our conditions change, so do our relations with others. We have all been each other’s friend and enemy, mother and father, son and daughter thousands upon thousands of times in the past. 

       Then he looked at all of the suffering in the world. And he saw how living beings create their own misery and joy. Blind to the truth that everything is always changing, they lie, steal and even kill to get the things that they want, even though these things can never give them the lasting happiness they desire. And the more their minds fill with greed and hate, the more they harm each other – and themselves! Each harmful action leads them to more and more unhappiness. They are searching for peace yet find nothing but pain. Finally, he discovered the way to end all this suffering. He was filled with a radiant clear light. He was no longer an ordinary person. With a calm and peaceful smile, he arose from his meditation. In the golden daybreak, so it is said, Siddhartha looked up and saw the morning star. And then a great understanding came to him. He saw in his mind all the life of the world and the planets; of all the past and all the future. He understood the meaning of existence, of why we are here on this earth and what has created us. At long last he found the truth; he attained enlightenment and established the principles of Karma.   Now he was the Lord Buddha, the fully liberated one, awakened and enlightened. The search of six long years had ended. It was a day when the full-moon shone, casting a bright silver light on the whole countryside, a day in the month of Vesak (May). 

  7. ram kumar shrestha said

    भगवान गौतम बुद्ध
    *भगवान गौतम बुद्ध* बौद्ध धर्म
    का प्रणेता हुन। अधिकांश बौद्ध परम्पराले उनीलाई हाम्रो कल्पका एक *सम्यक सम्बुद्ध*को रूपमा मान्दछन। *बुद्ध* भन्नाले बोधिप्राप्त वा अन्तिम सत्यको साक्षात्कार गरेको महामानव बुझिन्छ।*बुद्ध* कहलाइनु अघि यिनको नाम सिद्धार्थ गौतम थियो। उनलाई शाक्य मुनि गौतम बुद्ध पनि भनिन्छ।
    गौतम बुद्धको जन्म र मृत्यु कहिले भयो भनी यकीनका साथ भन्न नसकिए पनि बीसौं शताब्दिका धेरैजसो इतिहासकारहरू उनको जीवनकाल् ५६३ ईशापूर्व देखि ४८३ ईशापूर्व रहेको भन्ने कुरामा एकमत देखिन्छन्
    पछिल्लो समयमा भएका अनुसन्धान अनुसार उनको मृत्यु ४८६ देखि ४८३ ईशापूर्वको वीचमा रहेको मानिएको छ ]
    तथापि गौतम बुद्धको जन्म*बैशाख शुक्ल पूर्णिमाको दिन* हाल नेपालको सीमाभित्र पर्नेरूपन्देही जिल्लाको लुम्बिनी
    भन्ने ठाउँमा भएको थियो भन्ने कुरामा दुईमत छैन।
    उनले आफ्नो जीवनकालको पहिलो २९ वर्ष पिताद्वारा प्रदत्त राजसी सुखमा बिताए। तर पनि उनी सदा संसारमा व्याप्त दु:खको कारण र त्यसको निवारण के होला भनी चिन्तित रहन्थे। यही दु:ख निवारणको सत्यमार्ग पत्ता लगाउने उद्देश्यले २९ वर्षको उमेरमा गृहत्याग गरी सिद्धार्थ भारत
    को विभिन्न ठाउँमा सात वर्षसम्म कष्टदायक तपस्या गर्दै हिंडे। अन्तत: कष्टदायक मार्गले सत्यको प्राप्ति हुन सक्दैन भन्ने महशुस गरी मध्यमार्गको अवलम्बन गर्ने अठोट गरे। बोधगया
    भन्ने ठाउँमा एक बृक्षको मुनि अधिष्ठानपूर्वक ध्यान गर्दा गर्दै उनलाई*सम्यक सम्वोधि* प्राप्त भयो र उनी सम्यक सम्बुद्ध कहलाइए। त्यसपछि शेष ४५ वर्षसम्म उनी भारतवर्षका विभिन्न ठाउं पुगी दु:ख निवारण सम्वन्धी आफूलाई प्राप्त महाज्ञान बाँड्न रातदिन लागिपरे।
    बैराग्यता र प्रयाण
    बाल्यकालदेखि नै गम्भीर स्वभावका सिद्धार्थ गौतमलाई हरेक कुराले चिन्तनशील बनाउँथ्यो। दैनिकीकै क्रममा उनले बुढो, रोगी मानिसलाई देखे। उनले मानिस मरेको पनि देखे। यसबाट उनमा बैराग्य पैदा भयो। मानिस के कारणले रोगी हुन्छ? के कारणले बुढो हुन्छ? र के कारणले मर्छ? भन्ने प्रश्नले उनलाई बैरागी बनायो। यीनै प्रश्नको समाधान खोज्न बाबूको उत्तराधिकारमा आउने आफ्नो राज्यको समेत पर्वाह नगरी २९ बर्षको उमेर्मा उनी एकदिन राती सुटुक्क दरवार छोडेर निस्किए।

    In Hindi
    गौतम बुद्ध 
    गौतम गोत्र में जन्मे बुद्ध का वास्तविक नाम *सिद्धार्थ* था। उनका जन्म शाक्य
    गणराज्य
    की राजधानी कपिलवस्तु
    के निकट लुंबिनी
    में हुआ। शाक्यों के राजा *शुद्धोधन
    ‘* सिद्धार्थ के पिता थे। परंपरागत कथा के अनुसार, सिद्धार्थ की माता*मायादेवी
    * जो कोली वन्श की थी का उनके जन्म के सात दिन बाद निधन हो गया था। उनका पालन पोषण शुद्दोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया। शिशु का नाम सिद्धार्थ दिया गया, जिसका अर्थ है “वह जो सिद्धी प्राप्ति के लिए जन्मा हो”। जन्म समारोह के दौरान, साधु द्रष्टा आसित ने अपने पहाड़ के निवास से घोषणा की- “बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र पथ प्रदर्शक बनेगा।
    शुद्दोधन ने पांचवें दिन एक नामकरण समारोह आयोजित किया और आठ ब्राह्मण विद्वानों को भविष्य पढ़ने के लिए आमंत्रित किया। सभी ने एक सी दोहरी भविष्यवाणी की, कि बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र आदमी बनेगा।
    दक्षिण मध्य नेपाल
    में स्थित लुंबिनी में उस स्थल पर महाराज अशोक
    ने तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व बुद्ध के जन्म की स्मृति में एक स्तम्भ बनवाया था। बुद्ध का जन्म दिन व्यापक रूप से थएरावदा देशों में मनाया जाता है।

    आरंभिक जीवन में सत्य की खोज
    सिद्धार्थ ने दो ब्राह्मणों
    के साथ अपने प्रश्नों के उत्तर ढूंढने शुरू किये। समुचित ध्यान लगा पाने के बाद भी उन्हें इन प्रश्नों के उत्तर नहीं मिले। फ़िर उन्होने तपस्या की परंतु उन्हे अपने प्रश्नों के उत्तर फ़िर भी नहीं मिले। फिर उन्होने कुछ साथी इकठ्ठे किये और चल दिये अधिक कठोर तपस्या करने। ऐसे करते करते छः वर्ष बाद, भूख के कारण मरने के करीब-करीब से गुज़रकर, बिना अपने प्रश्नों के उत्तर पाएं, वे फ़िर कुछ और करने के बारे में सोचने लगे। इस समय, उन्हे अपने बचपन का एक पल याद आया जब उनके पिता खेत तैयार करना शुरू कर रहे थे। उस समय वे एक आनंद भरे ध्यान में पड़ गये थे और उन्हे ऐसा महसूस हुआ कि समय स्थिर हो गया है।

    कठोर तपस्या छोड़कर उन्होने आर्य अष्टांग मार्ग
    ढूंढ निकाला, जो मध्यम मार्ग भी कहलाता जाता है क्योंकि यह मार्ग दोनो तपस्या और असंयम की पाराकाष्टाओं के बीच में है। अपने बदन में कुछ शक्ति डालने के लिये, उन्होने एक बरह्मनि से कुछ खीर
    ली थी। वे एक पीपल
    के पेड़ (जो अबबोधि वृक्ष
    कहलाता है) के नीचे बैठ गये प्रतिज्ञा करके कि वे सत्य जाने बिना उठेंगे नहीं। वे सारी रात बैठे और सुबह उन्हे पूरा ज्ञान प्राप्त हो गया। उनकी अविजया नष्ट हो गई और उन्हे निर्वन यानि बोधि प्राप्त हुई और वे ३५ की उम्र तक बुद्ध बन गये। उनका पहला धर्मोपदेश वाराणसी
    के पास सारनाथ
    मे था जो उन्होने अपने पहले मित्रो को दिया। उन्होने भी थोडे दिनो मे ही बोधि प्राप्त कर ली। फिर गौतम बुद्ध ने उन्हे प्रचार करने के लिये भेज दिया ।भगवान गौतम बुद्ध

    हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
    इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

    मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
    हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।””
    Possible to like this page friends.

    http://m.facebook.com/profile.php?id=100373143478995&refid=13

    http://m.facebook.com/profile.php?id=563116867049392&refido


    http://m.facebook.com/profile.php?id=100373143478995&refid=13

  8. ram kumar shrestha said

    Gautama buddha birth place
    Country
    Nepal
    *Lumbinī* 
     लुम्बिनी, “the lovely”) is a Buddhist pilgrimage
    site in theRupandehi
    district of Nepal
    It is the place where Queen Mayadevi
    gave birth to Siddhartha Gautama
    who as theBuddha Gautama
    founded the Buddhist tradition
    The Buddha lived between roughly 563 and 483 BCE. Lumbini is one of four magnets for pilgrimage that sprang up in places pivotal to the life of the Buddha, the others being atKushinagar
    Bodh Gaya
    and Sarnath
    Lumbini was where the Buddha lived until the age of 29. Lumbini has a number of temples, including the Mayadevi temple, and others under construction. Also located here is the Puskarini or Holy Pond where the Buddha’s mother took the ritual dip prior to his birth and where he, too, had his first bath, as well as the remains of Kapilvastu palace. At other sites near Lumbini, earlier Buddhas were, according to tradition, born, achieved ultimateawakening
     and finally relinquished earthly form.

    हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
    इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

    मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
    हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।””

    गौतम बुद्ध 
    गौतम गोत्र में जन्मे बुद्ध का वास्तविक नाम *सिद्धार्थ* था। उनका जन्म शाक्य
    गणराज्य
    की राजधानी कपिलवस्तु
    के निकट लुंबिनी
    में हुआ। शाक्यों के राजा *शुद्धोधन
    ‘* सिद्धार्थ के पिता थे। परंपरागत कथा के अनुसार, सिद्धार्थ की माता*मायादेवी
    * जो कोली वन्श की थी का उनके जन्म के सात दिन बाद निधन हो गया था। उनका पालन पोषण शुद्दोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया। शिशु का नाम सिद्धार्थ दिया गया, जिसका अर्थ है “वह जो सिद्धी प्राप्ति के लिए जन्मा हो”। जन्म समारोह के दौरान, साधु द्रष्टा आसित ने अपने पहाड़ के निवास से घोषणा की- “बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र पथ प्रदर्शक बनेगा।
    शुद्दोधन ने पांचवें दिन एक नामकरण समारोह आयोजित किया और आठ ब्राह्मण विद्वानों को भविष्य पढ़ने के लिए आमंत्रित किया। सभी ने एक सी दोहरी भविष्यवाणी की, कि बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र आदमी बनेगा।
    दक्षिण मध्य नेपाल
    में स्थित लुंबिनी में उस स्थल पर महाराज अशोक
    ने तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व बुद्ध के जन्म की स्मृति में एक स्तम्भ बनवाया था। बुद्ध का जन्म दिन व्यापक रूप से थएरावदा देशों में मनाया जाता है।

    आरंभिक जीवन में सत्य की खोज
    सिद्धार्थ ने दो ब्राह्मणों
    के साथ अपने प्रश्नों के उत्तर ढूंढने शुरू किये। समुचित ध्यान लगा पाने के बाद भी उन्हें इन प्रश्नों के उत्तर नहीं मिले। फ़िर उन्होने तपस्या की परंतु उन्हे अपने प्रश्नों के उत्तर फ़िर भी नहीं मिले। फिर उन्होने कुछ साथी इकठ्ठे किये और चल दिये अधिक कठोर तपस्या करने। ऐसे करते करते छः वर्ष बाद, भूख के कारण मरने के करीब-करीब से गुज़रकर, बिना अपने प्रश्नों के उत्तर पाएं, वे फ़िर कुछ और करने के बारे में सोचने लगे। इस समय, उन्हे अपने बचपन का एक पल याद आया जब उनके पिता खेत तैयार करना शुरू कर रहे थे। उस समय वे एक आनंद भरे ध्यान में पड़ गये थे और उन्हे ऐसा महसूस हुआ कि समय स्थिर हो गया है।

    कठोर तपस्या छोड़कर उन्होने आर्य अष्टांग मार्ग
    ढूंढ निकाला, जो मध्यम मार्ग भी कहलाता जाता है क्योंकि यह मार्ग दोनो तपस्या और असंयम की पाराकाष्टाओं के बीच में है। अपने बदन में कुछ शक्ति डालने के लिये, उन्होने एक बरह्मनि से कुछ खीर
    ली थी। वे एक पीपल
    के पेड़ (जो अबबोधि वृक्ष
    कहलाता है) के नीचे बैठ गये प्रतिज्ञा करके कि वे सत्य जाने बिना उठेंगे नहीं। वे सारी रात बैठे और सुबह उन्हे पूरा ज्ञान प्राप्त हो गया। उनकी अविजया नष्ट हो गई और उन्हे निर्वन यानि बोधि प्राप्त हुई और वे ३५ की उम्र तक बुद्ध बन गये। उनका पहला धर्मोपदेश वाराणसी
    के पास सारनाथ
    मे था जो उन्होने अपने पहले मित्रो को दिया। उन्होने भी थोडे दिनो मे ही बोधि प्राप्त कर ली। फिर गौतम बुद्ध ने उन्हे प्रचार करने के लिये भेज दिया।

    http://m.facebook.com/profile.php?id=100373143478995&refid=13

    http://m.facebook.com/profile.php?id=563116867049392&refid=60

    http://m.facebook.com/NepalHistory?refid=13

    भगवान गौतम बुद्ध
    *भगवान गौतम बुद्ध* बौद्ध धर्म
    का प्रणेता हुन। अधिकांश बौद्ध परम्पराले उनीलाई हाम्रो कल्पका एक *सम्यक सम्बुद्ध*को रूपमा मान्दछन। *बुद्ध* भन्नाले बोधिप्राप्त वा अन्तिम सत्यको साक्षात्कार गरेको महामानव बुझिन्छ।*बुद्ध* कहलाइनु अघि यिनको नाम सिद्धार्थ गौतम थियो। उनलाई शाक्य मुनि गौतम बुद्ध पनि भनिन्छ।
    गौतम बुद्धको जन्म र मृत्यु कहिले भयो भनी यकीनका साथ भन्न नसकिए पनि बीसौं शताब्दिका धेरैजसो इतिहासकारहरू उनको जीवनकाल् ५६३ ईशापूर्व देखि ४८३ ईशापूर्व रहेको भन्ने कुरामा एकमत देखिन्छन्
    पछिल्लो समयमा भएका अनुसन्धान अनुसार उनको मृत्यु ४८६ देखि ४८३ ईशापूर्वको वीचमा रहेको मानिएको छ ]
    तथापि गौतम बुद्धको जन्म*बैशाख शुक्ल पूर्णिमाको दिन* हाल नेपालको सीमाभित्र पर्नेरूपन्देही जिल्लाको लुम्बिनी
    भन्ने ठाउँमा भएको थियो भन्ने कुरामा दुईमत छैन।
    उनले आफ्नो जीवनकालको पहिलो २९ वर्ष पिताद्वारा प्रदत्त राजसी सुखमा बिताए। तर पनि उनी सदा संसारमा व्याप्त दु:खको कारण र त्यसको निवारण के होला भनी चिन्तित रहन्थे। यही दु:ख निवारणको सत्यमार्ग पत्ता लगाउने उद्देश्यले २९ वर्षको उमेरमा गृहत्याग गरी सिद्धार्थ भारत
    को विभिन्न ठाउँमा सात वर्षसम्म कष्टदायक तपस्या गर्दै हिंडे। अन्तत: कष्टदायक मार्गले सत्यको प्राप्ति हुन सक्दैन भन्ने महशुस गरी मध्यमार्गको अवलम्बन गर्ने अठोट गरे। बोधगया
    भन्ने ठाउँमा एक बृक्षको मुनि अधिष्ठानपूर्वक ध्यान गर्दा गर्दै उनलाई*सम्यक सम्वोधि* प्राप्त भयो र उनी सम्यक सम्बुद्ध कहलाइए। त्यसपछि शेष ४५ वर्षसम्म उनी भारतवर्षका विभिन्न ठाउं पुगी दु:ख निवारण सम्वन्धी आफूलाई प्राप्त महाज्ञान बाँड्न रातदिन लागिपरे।
    बैराग्यता र प्रयाण
    बाल्यकालदेखि नै गम्भीर स्वभावका सिद्धार्थ गौतमलाई हरेक कुराले चिन्तनशील बनाउँथ्यो। दैनिकीकै क्रममा उनले बुढो, रोगी मानिसलाई देखे। उनले मानिस मरेको पनि देखे। यसबाट उनमा बैराग्य पैदा भयो। मानिस के कारणले रोगी हुन्छ? के कारणले बुढो हुन्छ? र के कारणले मर्छ? भन्ने प्रश्नले उनलाई बैरागी बनायो। यीनै प्रश्नको समाधान खोज्न बाबूको उत्तराधिकारमा आउने आफ्नो राज्यको समेत पर्वाह नगरी २९ बर्षको उमेर्मा उनी एकदिन राती सुटुक्क दरवार छोडेर निस्किए।

    In Hindi
    गौतम बुद्ध 
    गौतम गोत्र में जन्मे बुद्ध का वास्तविक नाम *सिद्धार्थ* था। उनका जन्म शाक्य
    गणराज्य
    की राजधानी कपिलवस्तु
    के निकट लुंबिनी
    में हुआ। शाक्यों के राजा *शुद्धोधन
    ‘* सिद्धार्थ के पिता थे। परंपरागत कथा के अनुसार, सिद्धार्थ की माता*मायादेवी
    * जो कोली वन्श की थी का उनके जन्म के सात दिन बाद निधन हो गया था। उनका पालन पोषण शुद्दोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने किया। शिशु का नाम सिद्धार्थ दिया गया, जिसका अर्थ है “वह जो सिद्धी प्राप्ति के लिए जन्मा हो”। जन्म समारोह के दौरान, साधु द्रष्टा आसित ने अपने पहाड़ के निवास से घोषणा की- “बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र पथ प्रदर्शक बनेगा।
    शुद्दोधन ने पांचवें दिन एक नामकरण समारोह आयोजित किया और आठ ब्राह्मण विद्वानों को भविष्य पढ़ने के लिए आमंत्रित किया। सभी ने एक सी दोहरी भविष्यवाणी की, कि बच्चा या तो एक महान राजा या एक महान पवित्र आदमी बनेगा।
    दक्षिण मध्य नेपाल
    में स्थित लुंबिनी में उस स्थल पर महाराज अशोक
    ने तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व बुद्ध के जन्म की स्मृति में एक स्तम्भ बनवाया था। बुद्ध का जन्म दिन व्यापक रूप से थएरावदा देशों में मनाया जाता है।

    आरंभिक जीवन में सत्य की खोज
    सिद्धार्थ ने दो ब्राह्मणों
    के साथ अपने प्रश्नों के उत्तर ढूंढने शुरू किये। समुचित ध्यान लगा पाने के बाद भी उन्हें इन प्रश्नों के उत्तर नहीं मिले। फ़िर उन्होने तपस्या की परंतु उन्हे अपने प्रश्नों के उत्तर फ़िर भी नहीं मिले। फिर उन्होने कुछ साथी इकठ्ठे किये और चल दिये अधिक कठोर तपस्या करने। ऐसे करते करते छः वर्ष बाद, भूख के कारण मरने के करीब-करीब से गुज़रकर, बिना अपने प्रश्नों के उत्तर पाएं, वे फ़िर कुछ और करने के बारे में सोचने लगे। इस समय, उन्हे अपने बचपन का एक पल याद आया जब उनके पिता खेत तैयार करना शुरू कर रहे थे। उस समय वे एक आनंद भरे ध्यान में पड़ गये थे और उन्हे ऐसा महसूस हुआ कि समय स्थिर हो गया है।

    कठोर तपस्या छोड़कर उन्होने आर्य अष्टांग मार्ग
    ढूंढ निकाला, जो मध्यम मार्ग भी कहलाता जाता है क्योंकि यह मार्ग दोनो तपस्या और असंयम की पाराकाष्टाओं के बीच में है। अपने बदन में कुछ शक्ति डालने के लिये, उन्होने एक बरह्मनि से कुछ खीर
    ली थी। वे एक पीपल
    के पेड़ (जो अबबोधि वृक्ष
    कहलाता है) के नीचे बैठ गये प्रतिज्ञा करके कि वे सत्य जाने बिना उठेंगे नहीं। वे सारी रात बैठे और सुबह उन्हे पूरा ज्ञान प्राप्त हो गया। उनकी अविजया नष्ट हो गई और उन्हे निर्वन यानि बोधि प्राप्त हुई और वे ३५ की उम्र तक बुद्ध बन गये। उनका पहला धर्मोपदेश वाराणसी
    के पास सारनाथ
    मे था जो उन्होने अपने पहले मित्रो को दिया। उन्होने भी थोडे दिनो मे ही बोधि प्राप्त कर ली। फिर गौतम बुद्ध ने उन्हे प्रचार करने के लिये भेज दिया ।भगवान गौतम बुद्ध

    हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
    इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

    मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
%d bloggers like this: